Tuesday, 10 December, 2013

दरमियाँ



दरमियाँ तेरे मेरे ............
सिलसिले यूँ ही चलते रहें
मुलाकातें न सही बातें होती रहें

दरमियाँ तेरे मेरे ................
साँसें यूँ ही चलती रहें
उम्र न सही झलक  मिलती रहें

दरमियाँ तेरे मेरे .................
बगिया यूँ ही खिलती रहे
रिश्ता न सही डोर  बंधती  रहे

दरमियाँ तेरे मेरे .................
परवाने यूँ ही जलते रहें
तन न सही मन मिलते रहें

दरमियाँ तेरे मेरे ..............
अहसास यूँ ही मचलते रहे
वफ़ा  न सही खामोशी पनपती रहे

दरमियाँ तेरे मेरे ................
फाँसले यूँ ही कटते रहे 
मंजिल न सही सफ़र चलते रहें    

अलका सैनी

4 comments:

  1. दरमियाँ तेरे मेरे कुछ न होकर भी कुछ तो रहे

    ReplyDelete
  2. Interesting and Poem, Pyar Ki Kahaniya and Hindi Story Shared By You Ever. Thank You.

    ReplyDelete
  3. दरमियाँ तेरे मेरे ................
    फाँसले यूँ ही कटते रहे
    मंजिल न सही सफ़र चलते रहें

    ....कमाल कर दिया उत्कृष्ट भाव संयोजन से सजी बेहतरीन भावाभिव्यक्ति।

    ReplyDelete