Friday 24 January 2014

शब्द



जब तुम नहीं होते तो
शब्दों के सागर में गोते लगाते
अपना मन बहला लेती हूँ
कभी कोई कविता तो
कभी कोई नज्म बन जाती है
मेरी तरह आधी - अधूरी

कोई और नहीं वह मेरी अंतरात्मा ही है
तुम्हारे बिन कहीं न कहीं छटपटाती नजर आती
कभी गजल कभी गीत बनकर
कभी प्यासी नदी तो कभी प्रीत बनकर
आज कल हर कोई तो अपने को
शब्दों से बहलाता प्रतीत होता है
पर तुमने तो शायद यह भी
करना छोड़ दिया है
न कोई शब्द, न कोई संवाद
न कोई ध्वनि, न कोई उन्माद
बस चुप्पी, बस मौन पसरा है
सब जगह
पर कब तक ?
इन शब्दों से भी कोई
अपने को बहलायेगा
शब्द काल्पनिक दुनिया में घूमते रहते हैं
हकीकत से कोसों दूर
या होती है जिनमे बीतें लम्हों की कसक
या फिर अधूरे पलों की तमस
पर कुछ भी तो शब्दों में पूर्ण प्रतीत नहीं होता
सब कुछ अपूर्ण तुम्हारे बिन
हाँ कुछ समय के लिए अपने को
बहलाने का एक छोटे बच्चे की तरह
मात्र इक छलावा
पर कब तक ? 

2 comments: