Monday 24 March 2014

मेरा दीवाना है ...........



सांवली सलोनी सूरत वाला
 अलबेला अंजाना सा

वो और कोई नहीं
 मेरा दीवाना है ...........

हर अदा , हर वफ़ा उसकी
 दुनिया से निराला है

पत्थर में जान डाल दे
रोते को हंसाने वाला है

वो और कोई नहीं
 मेरा दीवाना है ...........

अपनी बातों से अपनी सादगी से
जीत ले दिल किसी का भी

ख़ुदा  का भेजा फरिश्ता
लगता नहीं बेगाना सा

वो और कोई नहीं
 मेरा दीवाना है ...........



थोड़े पलों में वो बन बैठा
 दिल का पैमाना है

जिन्दा दिली की अजब मिसाल
 वक्त को झुकाने वाला है

वो और कोई नहीं
मेरा दीवाना है ...........

2 comments:

  1. Nice Website...
    Hey JOIN now fblikesbot.com and Increase Facebook Likes your profile and websites.
    Increase Facebook Likes It may also be very useful for you also really

    ReplyDelete
  2. वाह क्या बात है । बहुत सुन्दर । बहुत दिन बाद आपकी एक कविता पड़ने को मिला

    ReplyDelete